Home Music Gana kaise banaya jata hai – Song कैसे बनाते हैं

Gana kaise banaya jata hai – Song कैसे बनाते हैं

28
0

गाना सुनना हर किसी को पसंद होता है कई लोग गाना गाते भी हैं, ऐसे में आपके मन में सवाल आया होगा की Gana kaise banaya jata hai, गाना कैसे बनते हैं? तो आपके इस प्रश्न का उत्तर इस पोस्ट में देने की कोशिश करूंगा।

पहले के टाइम पर म्यूजिक बनाने के लिए टीम की आवश्यकता पड़ती थी जिसमें अलग अलग इस्ट्रूमेंट्स को professional musicians play करते थे but अभी के समय में यही चीज digital तरीके से होने लगी है, इससे काम आसान तो हुआ ही है साथ ही एक अवसर नए आर्टिस्ट्स और सिंगर्स को मिल गया हैं क्योंकि digitally music ready करने के लिए आपको किसी team की जरुरत नहीं पड़ती इसमें व्यक्ति चाहे तो खुद से म्यूजिक गाना बना लेता है।

अगर आपको यह जानना है म्यूजिक कैसे बनाया जाता है? (Gana kaise banaya jata hai) तो आपको आज इसके बारे में प्रोपर नॉलेज मिल जाएगी। तेजी से म्यूजिक का निर्माण करना केवल एक व्यक्ति द्वारा अब मुमकिन है मैं यहां पर किसी ऐप की बात नहीं कर रहा वैसे मोबाइल ऐप के जरिए भी music banaye jate hain पर professionals इनका use नहीं करते actually वो लोग DAW software की मदद लेते हैं gane banane ke liye इसके बारे में जान लेते हैं।

क्या है DAW? (DAW Kya Hota Hai in Hindi)

ऐसा डिजिटल सॉफ्टवेयर जिसके माध्यम से हर तरह का म्यूजिक बनाया जा सकता है उसे DAW कहते हैं इसका पूरा नाम Digital Audio Workstation (DAW) है। डॉ अभी के वक्त में बहुत ज्यादा use होते हैं music making software के तौर पर इनका ही उपयोग किया जा रहा है, music industry में gane बनाने के लिए tracks इसी में रेडी किए जाते हैं। अलग अलग कंपनी इस तरह के daw software बनाते हैं और features add कर करके इसे और useful बना रहे हैं ताकि music producers को अधिक सुविधा हो म्यूजिक निर्माण में।

Gana kaise banaya jata hai – Song कैसे बनाते हैं

Gana kaise banaya jata hai
Gana kaise banaya jata hai

जैसा की आपने ऊपर पढ़ा जिससे ये पता चलता है की म्यूजिक बनाने के लिए सॉफ्टवेयर का यूज होता है। उन daw software में ऐसे कई सुविधाएं मिलती है जिनको use करके मनचाहा संगीत बना सकते है, जितनी भी काम इसपर होती है वह डिजिटल रूप में होती है वैसे इससे हार्डवेयर डिवाइस भी जोड़े जा सकते हैं जिसमें पियानो, गिटार, ऑडियो इंटरफेस, माइक आदि शामिल है। आगे आप उन सभी प्रक्रियाओं (song making process) को पढ़ने वाले हैं जिसके द्वारा गाना बनाया जाता है।

गाना लिखना (Song writing / Lyrics writing)

जब कोई आर्टिस्ट गाना बनाने की सोचता है तब इस प्रक्रिया में पहला काम होता है lyrics (लिखावट) जिसे वह खुद भी लिख सकता है या किसी अनुभवी व्यक्ति (song writer) से लिखवा सकता है।

एक सॉन्ग के लिए गाने का बोल, गाने का मुखड़ा और अंतरा जबरदस्त होना चाहिए, सुनने लायक जिसे लोग पसंद करें, जब राइटर सॉन्ग लिखता है तब वह या तो सॉन्ग पहले लिखता है या पहले धुन बनाकर उस पर शब्द को सेट करता है जिसमें राइमिंग वर्ड्स पर ध्यान दिया जाता है।

गाने की धुन (Song melody)

Lyrics writing के बाद Singer उस गीत पर धुन सेट करता है और यदि धुन पहले ही बना लिया गया हो तो गायक उस पर अभ्यास करता है की इसे कैसे गाना है? गाने के एक एक लाइन के लय, सुर, ताल पर ध्यान दिया जाता है।

म्यूजिक बनाना (Making music)

गाने की धुन तैयार करने के बाद बारी आती है music tracks ready करने की because सॉन्ग बिना म्यूजिक अधूरा है, इसके लिए अनुभवी musicians की जरूरत पड़ेगी but जैसा की मैने बताया अभी के टाइम पर एक व्यक्ति भी म्यूजिक बना लेगा software द्वारा, लेकिन उसे सॉफ्टवेयर चलाना आना चाहिए इसके लिए अनुभवी म्यूजिक प्रोड्यूसर की हेल्प लिया जाता है जो Song के लिए music tracks तैयार करते हैं।

Basic Tracks

Song’s के अनुसार बेसिक म्यूजिक ट्रैक बनाने के बाद उसमें required instruments add करते हैं ।

Arrangements

Software में हर एक instruments का अलग अलग track होता है जैसे guitar का अलग, piano, drum section etc. का अलग, बेस्ट म्यूजिक के लिए सभी ट्रैक को व्यवस्थित ढंग से सजाकर रखना जरूरी होता है, song में quality add करनी हो और सभी इंस्ट्रूमेंट्स परफेक्ट ईयर में सुनाई दे इसका भी खास ध्यान दिया जाता है।

Pre mixing

जब daw software में tracks arrange करते हैं तब कई ट्रैक एक दूसरे को disturb करते हैं इसी वजह से सभी sound properly सुनाई नहीं देते, इसी प्रॉब्लम को fix करने के लिए music के मांग के अनुरूप एक एक traks की volume को down and up किया जाता है जो सुनने में भी अच्छा लगे। किसी full song की mixing part से पहले mixing पर थोड़ा ध्यान देने को Pre mixing कह सकते हैं।

Music files / project export

जब producer software में गाने का म्यूजिक तैयार कर लेता है उसके बाद उसे computer system के फाइल में export / save कर लेता है ताकि उसे कभी भी ओपन किया जा सके और जरुरी changes किया जा सके।

Gaane की Recording करना (Song Recording)

Lyrics writing / Song composing and music making process के बाद बारी आती है Singer की आवाज record करने की। Song अच्छे से और कम टाइम से रिकॉर्ड हो सके इसके लिए professional singer को गाने के लिए कहा जाता है, उन्हें पता होता है गाने में कहां रुकना है, Music Tempo और Producer के कहे अनुसार Gana गाने की कला उनमें होती है।

Gana Record करने के लिए इक्यूपमेंट्स (Equipment for recording songs)

एक गाने को रिकॉर्ड करने के लिए जरूरत पड़ने वाली सभी इंस्ट्रूमेंट को कंप्यूटर सिस्टम से कनेक्ट किया जाता है कंप्यूटर में म्यूजिक मेकिंग सॉफ्टवेयर ओपन रहता है और हार्डवेयर डिवाइस जैसे की कंडेंसर माइक्रोफोन, पियानो, गिटार इत्यादि। को यूएसबी केबल या कनेक्टर के जरिए उससे जोड़ दिया जाता है।

वैसे गाने की रिकॉर्डिंग की समय माइक्रोफोन को ऑडियो इंटरफेस में और ऑडियो इंटरफेस को कंप्यूटर सिस्टम में यूएसबी केबल के द्वारा जोड़ दिया जाता है अब सिंगर जो भी गाय का वह माइक के जरिए डिजिटल रूप में कंप्यूटर सॉफ्टवेयर में चला जाएगा और बाद में आवाज की क्वालिटी को और बेहतर किया जा सकता है।

जब सिंगर माइक के सामने गाना गाता है तो गाने में साउंड लाउड होगी या सॉफ्ट उस हिसाब से सिंगर को mic और अपने फेस की दूरी को मेंटेन करना रहता है, माइक में पॉप फिल्टर लगा होता है जो सिंगिंग के दौरान आने वाली एयर को अब्जॉर्ब कर लेता है इससे वॉइस बेटर क्वालिटी में रिकॉर्ड हो जाता है। सफलतापूर्वक गाने की रिकॉर्डिंग के बाद आगे की क्या प्रक्रिया होती है आइए जानते हैं।

वोकल प्रोसेसिंग (Vocal processing)

अगर म्यूजिक पहले ही बना दिया गया है तो अब गाने की रिकॉर्डिंग के बाद सिंगर की आवाज में प्रोसेसिंग करना होगा इसे वोकल प्रोसेसिंग कहते हैं इसके माध्यम से आवाज के बैकग्राउंड में आने वाली एयर डिस्टरबेंस को सॉल्व किया जाता है, कंप्रेशन इफेक्ट लगाया जाता है जो वॉइस में लाउड पार्ट को कंप्रेस कर देता है इससे वोकल एक लेवल पर आ जाता है इसके अतिरिक्त वोकल की डिमांड के अनुसार अन्य कार्य किए जाते हैं।

सिंगर की आवाज को और अट्रैक्टिव और सुरीला बनाने के लिए आजकल ऑटोट्यून इफेक्ट का यूज भी किया जाता है normally सभी Song’s में आर्टिस्ट की वॉइस पर Compression, Reverb, Delay, EQ etc. Voice Effect का use होता है जो सुनने में cool लगता है लोकल में इफेक्ट की कैपेसिटी गाने की टेस्ट या फीलिंग के हिसाब से कम ज्यादा की जाती है।

गाने की मिक्सिंग (Song mixing)

पर्फेक्ट वोकल प्रोसेसिंग के बाद बारी आती है मिक्सिंग की इसके अंतर्गत डिजिटल ऑडियो वर्कस्टेशन यानी म्यूजिक मेकिंग सॉफ्टवेयर में बनाए गए सभी म्यूजिक ट्रेक्स और आर्टिस्ट की वॉइस को सही से मिक्स किया जाता है। इस दौरान ध्यान दिया जाता है कि गाने में इस्तेमाल किए गए सभी इंस्ट्रूमेट्स की साउंड सही से सुनाई दे रही है या नहीं यदि लगता है कि किसी इंस्ट्रूमेंट कर साउंड को कम या ज्यादा करना है तो गाने की डिमांड के अनुसार याद किया जाता है।

कई बार एक इंस्ट्रूमेंट दूसरे इंस्ट्रूमेंट को डिस्टर्ब करता है मतलब यदि गिटार का साउंड पियानो के साउंड को डिस्टर्ब कर रहा है या दबा रहा है तो इससे बैलेंस करना प्रोड्यूसर का काम होता है सुनने वाले व्यक्ति को गाना मधुर लगे इसका खास ध्यान म्यूजिक प्रोड्यूसर रखता है।

गाने में मिक्सिंग पार्ट को करना बहुत ही धैर्य का काम होता है इसमें जल्दबाजी करने से बेहतर आउटपुट प्राप्त नहीं की जा सकती इसलिए सालों अनुभव रखने वाले प्रड्यूसर भी ध्यान से अपना समय देखकर मिक्सिंग पार्ट को अंजाम देते हैं, और जब मिक्सिंग कंप्लीट हो जाती है तो कहीं मिस्टेक ना हुई हो इसकी दोबारा से जांच की जाती है इसे मिक्सिंग पार्ट 2 का जाता है।

मास्टरिंग (Mastering sectiong)

मास्टरिंग सेक्शन को भी बहुत ही ध्यान से पूरा किया जाता है यह फाइनल स्टेप होता है गाना बनाने में पर बहुत महत्वपूर्ण है। मास्टरिंग के माध्यम से गाने की क्वालिटी को और एनहांस किया जाता है, उसे लाउड बनाया जाता है किंतु मास्टरिंग का मतलब केवल साउंड को लाउड करना नहीं है इसके अंतर्गत अन्य चीजों पर भी काम होता है जैसे ट्रैक मोनो स्पीकर्स में कैसे सुनाई दे रहा है या स्टीरियो में कैसे साउंड आ रहा है इत्यादि। कभी-कभी म्यूजिक एंड आर्टिस्ट की आवाज अलग-अलग सुनाई देता है जो सुनने में उतना अच्छा नहीं लगता, यह गाने के साथ जुड़ा हुआ लगे इस पर भी ध्यान दे सकते हैं।

साउंड चेक करना (Sound check)

जैसे ही गाने की मास्टरिंग पूरी हो जाती है गाना बनके रेडी हो जाता है लेकिन उसके बाद उसे रिलीज करने से पहले उसे अलग अलग स्पीकर्स में सुना जाता है इससे यह पता चलता है की गाना मोबाइल डिवाइस में कैसा सुनाई देगा, हेडफोन और इयरफोन में कैसा, होम थिएटर और कार में कैसा सुनाई देगा इस तरह साउंड की टेस्टिंग की जाती है यदि सबकुछ सही सुनाई दे रहा है तो इसे पब्लिक में रिलीज किया जाता है ताकि कोई भी व्यक्ति इसे सुनकर एंजॉय कर सके।

Final words

Song complete हो जाने के बाद इसे रिलीज किया जाता है जिसके लिए आर्टिस्ट किसी म्यूजिक कंपनी या अब तो खुद भी YouTube, Spotify, SoundCloud etc. Social Media Platforms पर अपलोड कर सकता है और अपना म्यूजिक दुनियाभर में पहुंचा सकता है। दोस्तों इस पोस्ट में मैने Gana kaise banaya jata hai – Song कैसे बनाते हैं (How to make Song in Hindi) के बारे में बताया है I hope आपको पसंद आएगा यदि आपको पोस्ट अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करिए ताकि उन तक भी जानकारी पहुंचे।

Previous articleRAM Aur Rom Kya Hai – रैम और रोम क्या होता है?
Next articleBollyflix Pro – Bollyflix Bollywood and Hollywood Movies Download In Hindi